Monday , November 20 2017
Home / Trending Now / गाँव जहाँ मुस्लिम भी बोलतें है संस्कृत |
गाँव जहाँ मुस्लिम भी बोलतें है संस्कृत |
गाँव जहाँ मुस्लिम भी बोलतें है संस्कृत |

गाँव जहाँ मुस्लिम भी बोलतें है संस्कृत |

कर्नाटक का मतूरू गाँव भारत का एकमात्र गाँव है जहाँ हिन्दू हो या मुस्लिम सभी संस्कृत ही बोलतें है | यह गाँव बंगलोर से 300 किमी की दुरी पर है | मतूरू  गाँव तुंग नदी के किनारे बसा हुआ है और इसके किनारे पर श्री राम जी का भव्य मन्दिर भी है | शुरू से ही  इस गाँव में संस्कृत भाषा बोली जाती थी लेकिन कुछ साल पहले यहाँ कन्नड़ भाषा बोली जाने लगी थी | ३३ साल पहले पेजावर मठ के स्वामी ने इसे फिर से संस्कृत भाषा बोलने वाला गाँव बनाने का प्रण लिया |

Read this : हिन्दू छात्र ने मुगलों के बारे में क्या लिखा , निकाला लखनऊ विश्वविद्यालय ने

स्वामी जी ने मात्र 10 दिनों तक 2 घंटे अभ्यास करवाकर लोगों को संस्कृत सिखा दी थी और तब से यहाँ के लोग आपस में भी संस्कृत में ही बात करतें है | गाँव में विदेशों से भी लोग संस्कृत सिखने और वेदों का ज्ञान प्राप्त करने आते है | यहाँ संस्कृत प्रथम भाषा के तौर पर जानी जाती है | यहीं नहीं यहाँ के बच्चे बड़ी बड़ी कम्पनीज में उच्च पदों पर काम करतें है | इस गाँव में 500 से ज्यादा परिवार रहतें है और 3500 से ज्यादा लोग रहतें है | इस गाँव में वेदों का ज्ञान भी दिया जाता है और अपनी इच्छा से कोई भी यहाँ संस्कृत सिखने और वेदों का अध्ययन करने आ सकता है |

Read this : भारत के महान 6 आविष्कार