पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के सदस्य लाल चंद मल्ही ने वीरवार ११ अगस्त के ‘अंतरराष्ट्रीय अल्पसंख्यक दिवस’ पर राम मंदिर को हिंदू परिवारों के हवाले किए जाने की मांग को उठाते हुए पाक प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को चिट्ठी लिखी है।

जानें बलूचिस्तान का हिन्दू इतिहास और अखंड भारत के लिए उसका महत्व

मल्ही ने टेलीफोन पर बताया, इस्लामाबाद शहर में लगभग साढ़े आठ सौ हिंदू रहते हैं, उन्हें राम मंदिर मे जाने का अधिकार मिलना ही चाहिए। मानवाधिकार कार्यकर्ता कपिल देव ने बताया, भारत-पाकिस्तान के बंटवारे से पहले सैदपुर में बड़ी संख्या में हिंदू परिवार रहते थे।

1947 में उनमें से अधिकांश भारत चले गए और इसी के साथ मंदिर की मर्यादा खत्म होने लगी। उन्होंने कहा, अब हालत यह है कि, गैर हिंदू लोग जूतों समेत ही मंदिर में चले जाते हैं।

२००६ में सैदपुर को पर्यटक स्थान का दर्जा दे दिया गया, किंतु मंदिर को हिंदुओं के हाथों में नहीं सौंपा गया। मल्ही कहते हैं कि, इस्लामाबाद के मेयर अंसार अजीज ने भी हिंदुओं की मांग की हिमायत की है। उन्होंने कहा, मंदिर के गलत उपयोग का सिलसिला शीघ्र बंद होना चाहिए। यह हिंदुओं की अमानत है और सम्मान के साथ उन्हें वापस दी जानी चाहिए।