Monday , September 25 2017
Home / Trending Now / अघोरियों के 10 पवित्र शक्ति पीठ
अघोरियों के 10 पवित्र शक्ति पीठ
अघोरियों के 10 पवित्र शक्ति पीठ

अघोरियों के 10 पवित्र शक्ति पीठ

  1. कालीघाट कलि मन्दिर : ये मन्दिर पश्चिम बंगाल के कोलकाता के कालीघाट में स्थित है और 51 शक्तिपीठों में से एक है | यहाँ माता सती के दायें पांव के अंगूठे को छोड़ 4 अंगुलियों का पतन हुआ था | इस मन्दिर में ही स्वामी विवेकानन्द के गुरु रामकृष्ण परमहंस जी ने तप किया था | और यहाँ कई तन्त्र क्रियाएं भी की जाती है जिस कारण ये मन्दिर अघोरियों के लिए पवित्र माना जाता है |
  1. तारा पीठ : यह मन्दिर पश्चिम बंगाल के में स्थित एक भव्य मन्दिर है और ये तांत्रिक क्रियायों के लिए जाना जाता है | इस जगह माता सती के नेत्र गिरे थे और इसे नयन तारा भी कहा जाता है | इस मन्दिर की स्थापना महर्षि वशीष्ठ ने की थी और यहाँ तप करके उन्हीने अनेकों सिधिया प्राप्त की थी | महर्षि वशीष्ठ ने माँ तारा को प्रसन्न करने के लिए घोर तप किया था लेकिन वे प्रसन्न नहीं कर पाए थे | यहाँ अनेकों अघोरी और संत जन साधना करने या तांत्रिक क्रियाएं करने आते है |
  1. अघोर कुटी ( नेपाल ) : नेपाल में कई ओघड स्थान हैं | इनमें से ही एक है अघोर कुटी | अघोरेश्वर भगवान राम के शिष्य बाबा सिंह शावक रामजी ने काठमांडू में इसकी स्थापना की थी | किनारामी परम्परा के इस असर्म को नेपाल में बड़े आदर से देखा जाता है |
  1. लालजी पीर ( अफगानिस्तान ) : अफगानिस्तान में ये मन्दिर कीनाराम परम्परा के संतों को दिया गया था | अफगानिस्तान के पूर्व शासक जाहिर शाह के पूर्वजों ने दी थी | यहाँ ओघड रतनलाल जी की समाधि है और वे पीर के रूप में विराजमान हैं |

Read this : गंगा में विसर्जित अस्थियां आखिर जाती कहां हैं?

अन्य ५ प्रमुख मंदिर अगले प्रष्ट पर —>  Click Me