Monday , December 11 2017
Home / Trending Now / अर्जन सिंह – 1965 युद्ध के वीरं योद्धा की गौरव गाथा – Saffron Tigers
1965 युद्ध के वीरं योद्धा की गौरव गाथा : अर्जन सिंह
1965 युद्ध के वीरं योद्धा की गौरव गाथा : अर्जन सिंह

अर्जन सिंह – 1965 युद्ध के वीरं योद्धा की गौरव गाथा – Saffron Tigers

मार्शल अर्जन सिंह

गुरुग्राम :  वायु सेना का गौरव कहें जाने वाले मार्शल अर्जन सिंह अब इस दुनिया में नहीं रहें | मार्शल अर्जन सिंह ने शनिवार को दिल्ली  में र डी र अस्तपताल में आखिरी सांसे ली | अर्जन सिंह भारतीय वायु सेना के महान सैनिकों में से एक थे | आज भले ही उनकी मृतु हो गई हो लेकिन उनका नाम हमेशा वीरों में लिया जायेगा | आइये जानतें है स्वर्गीय अर्जन सिंह के बारे में कुछ रोचक बातें :

Read this : गौरी लंकेश का अंतिम लेख पीएम मोदी के खिलाफ

  • अर्जन सिंह का जन्म 15 अप्रैल 1919 को पंजाब के लायलपुर में हुआ जो अब पाकिस्तान का हिस्सा है |
  • वे सिर्फ 19 वर्ष के थे जब उनको एम्पायर पायलट ट्रेनिंग कोर्से के लिए चुना गया था और यही उनके एक अच्छे वायु सैनिक बनने की शुरुआत थी |
  • 15 अगस्त 194७ के दिन जब लाल किली के उपर से फाइटर विमानों का नेत्रत्व भी अर्जन सिंह ने ही किया था |

Read this : Sanjukta Parashar जिसने किया 160 बंगलादेशी घुस्बेठिओं को ढेर

  • 1965 की भारत पाकिस्तान जंग में उन्होंने युद्ध की स्थिति ही बदल डाली थी | जब पाकिस्तान ने ऑपरेशन ग्रैंड स्लैम कश्मीर पर हमला बोला था तो उनको तलब किया गया और उनसे पूछा गया की कितनी देर में वायु सेना हमले के लिए त्यार होगी तब उन्होंने जवाब दिया सिर्फ 1 घंटे में | इस प्रकार सिर्फ 1 ही घंटे में पाकिस्तान पर हमला क्र दिया गया था |
  • युद्ध में उनके अधबुत कौशल के लिए उहने पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था और उन्हें वायु सेना का चीफ मार्शल भी बनाया गया |

Read this :  वो युद्ध जहाँ 10000 अफगान काटे गये- Battle of Saraighat

  • अर्जन सिंह वायु सेना में 5 सितारा रैंक प्राप्त करने वाले  इकलौते सैनिक थे |
  • वे एक साल के लिए दिल्ली के गवर्नर भी रहे |
  • वे एक ऐसे सैनिक थे जो लगातार 5 वर्ष के वायुसेना के अध्यक्ष रहे |