Sunday , October 22 2017
Home / Bhardwaj

Bhardwaj

नवरात्री साधना – Navratri Sadhna

नवरात्री साधना

नवरात्री साधना नवरात्रों के पर्व पर रात्री को करने वाली नवरात्री साधना | शुरू होने वाले है और नवरात्रों के साथ ही हो जायेगा नववर्ष का आगमन आइये नववर्ष की शुरुआत करते है माँ भगवती की अराधना से | माँ भगवती का यह पूजन हमें नारी की शक्ति से अवगत …

आगे पढ़िए »

महाकाली साधना

महाकाली-साधना

महाकाली साधना मेरे गुरुदेव सिद्ध रक्खा राम जी पर माँ काली की विशेष कृपा थी | उन्होंने माँ काली को कई अलगअलग रूपों में सिद्ध किया था | माँ काली के अनेको रूप है उनमे से नौ रूप मुख्य है | उन नौ रूपों में से भी माँ काली के कामकला रूप को सर्वश्रेष्ठ माना गया है है | माँ का यह रूप पतित से पतित व्यक्ति को भी मोक्ष दे देताहै | माँ का यह स्वरुप भोग और मोक्ष दोनों को देने वाला है और कहते है महापंडित रावण ने भी माँ कोइसी रूप में सिद्ध किया था और माँ की शक्ति द्वारा नवग्रहों का स्तम्भन कर दिया था | यह भी पढ़िये : श्री राम को भगवान और रावन को इसलिए राक्षस बोला जाता है माँ के इस स्वरुप का ज्ञान हर किसी को नहीं दिया जाता,यह ज्ञान केवल गुरु शिष्य परंपरा से ही मिलता है | महाविद्याओं के विषय में अधिक नहीं लिखना चाहता क्योंकिआजकल हर कोई दस महाविद्याओं की बात करता है औरउनके मंत्र बाँट रहा है पर ऐसे लोगों को कौलमार्ग का ‘ क ‘भी नहीं पता | मैं किसी की निन्दा नहीं करना चाहता परकई बार ऐसा लगता है कि इन लोगों ने तंत्र को केवल दसमहाविद्याओं तक ही सीमित कर दिया है , अन्य देवी देवताएवं तंत्र तो व्यर्थ ही प्रतीत से होते है | साबर मन्त्र जो नवनाथ चौरासी सिद्ध बावन वीर आदि से सम्बन्ध रखते है उनका एक अलग महत्व है पर कई बार ऐसा लगता है कि दस महाविद्याओं के अतिरिक्त तंत्र है ही नहीं फिर चाहे वोसिद्धहस्त साधना हो या अघोरेश्वर साधना | यह भी पढिये : गुरु गोरखनाथ गुरु मंत्र मेरा यह प्रयत्न रहा है कि मैं दस महाविद्याओं से अलगग्रामीण तंत्र और लोक प्रचलित देवी देवताओं का प्रचारकरूँ जो वास्तविक साबर तंत्र है | मैं विषय से भटकना ठीक नहीं समझता इसलिए ग्रामीण तंत्र पर फिरकभी बात कर लेंगे | दस महाविद्याओं के विषय में अनेकों लोगो के पत्र मिले और अधिकतर लोगों कीयह शिकायत थी कि साईट पर दस महाविद्याओं से सम्बंधित साबर मंत्र नहीं है और अधिकतर लोगों कायह कहना था कि माँ काली से सम्बंधित आसान साबर मन्त्र दे जो घर में सिद्ध किया जा सके | प्रस्तुत साबर मन्त्र मेरे सदगुरुदेव सिद्ध रक्खाराम जी से प्राप्त हुआ था और विधि बहुत सरल है |   ||  मंत्र  || काली काली महाकाली  ब्रह्मा की बेटी , इंद्र की साली उड़ बैठी पीपल की डाली , दोनों हाथ बजाएं ताली , शिव भोले और शिव की दुहाई , सर्व कार्य सिद्ध कर माँ मेरिये || …

आगे पढ़िए »

मल्हार राव होलकर – पेशवा के साथ दिल्ली का लाल किला जीता था

मल्हार राव होलकर

गुरुग्राम : बचपन में पशु चराने वाले मल्हारराव को उनके साहस और शौर्य के चलते बाजीराव पेशवा ने 11 महलों की जागीर दी थी। वहीं मुगलों ने उन्हें महाराजाधिराज की उपाधि से नवाजा था। अपने वैभव के लिए विश्वभर में चर्चित इंदौर के होलकर साम्राज्य के संस्थापक मल्हार राव होलकर एक सामान्य …

आगे पढ़िए »

लुधियाना में बब्बर खालसा के सात आतंकी धरे गए Khalistani Terrorist

Khalistani Terrorist

लुधियाना में बब्बर खालसा के सात आतंकी धरे गए – Khalistani Terrorist लुधियाना पुलिस के अनुसार ये आतंकी सोशल मीडिया के जरिए खालिस्तान का विरोध करने वाले कुछ हिन्दू लीडरों को निशाना बनाना चाहते थे जाब पुलिस और इं​टेलिजेंस ब्यूरो की संयुक्त टीम ने शनिवार को आतंकी संगठन बब्बर खालसा के सात सदस्यों …

आगे पढ़िए »

श्री राम को भगवान और रावन को इसलिए राक्षस बोला जाता है

श्री राम को भगवान और रावन को इसलिए राक्षस बोला जाता है गुरुग्राम : आज  कलयुग में सेवा भाव , पूजा पाठ करने वाला साधारण सा व्यक्ति समाज में अपना रुतबा नहीं बना पता है पर दुष्ट , कपटी अपनी पहचान बना लेता है , कलयुग का प्रभाव इतना है …

आगे पढ़िए »

मुसलमानों को लद्दाख से बाहर निकालने का बोद्ध गुरु द्वारा आदेश

मुसलमानों को लद्दाख से बाहर निकालने का बोद्ध गुरु द्वारा आदेश

                                      मुसलमानों को लद्दाख से बाहर निकालने का बोद्ध गुरु द्वारा आदेश लद्दाख बौद्ध एसोसिएशन (एलबीए) जम्मू और कश्मीर में पीडीपी-भाजपा सरकार के खिलाफ हथियार उठा रही है और उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र …

आगे पढ़िए »

गौरी लंकेश का अंतिम लेख पीएम मोदी के खिलाफ

गौरी लंकेश

कर्नाटक की फायरब्रांड एक्टिविस्ट पत्रकार गौरी लंकेश की मंगलवार रात को हत्या कर दी गयी. कहा जा रहा है कि गौरी लंकेश की तर्कवादी सोच ने उनके इतने दुश्मन बना दिये थे कि उनकी हत्या कर दी गयी. गौरी लंकेश  कम्युनिस्ट विचारधारा की थीं और नरेंद्र मोदी की कट्टर विरोधी …

आगे पढ़िए »

रोहिंग्या मुसलमानों के हक में लुधिअना में मार्च

रोहिंग्या मुसलमानों के हक में लुधिअना में मार्च

न्यू दिली : – रोहिंग्या मुसलमानों का मुदा दिन प्रति दिन हवा पकड़ती जा रहा है | रोहिंग्या मुस्लमान वो लोग है जिन्हे म्यांमार से निकाल दिया गये है और उन्हें कोई भी देश  में रहने नहीं दे रहा है | भारत में कुछ दिनों से यह रोहिंग्या आ कर …

आगे पढ़िए »

ये है गौरी लंकेश का क़ातिल, नाम सुनकर कांग्रेस के छूटे पसीने

Gauri Lankesh

नई दिल्ली : आरएसएस और बीजेपी के खिलाफ पत्रकारिता करने वाली वामपंथी पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या होने के बाद तेजी से कांग्रेस ने इसका आरोप हिंदूवादी संगठनों पर लगाया था. यहाँ तक की खुद राहुल गांधी ने इसके लिए पीएम मोदी से जवाब तलब कर लिया था. मगर अब …

आगे पढ़िए »

आखिर क्या कसूर है रोहिंग्या मुसलमानों का जो बर्मा से मारे काटे भगाए जा रहे हैं ?

Rohnigya Muslims

रोहिंग्या मुसलमान बर्मा में क्यो जा रहे हैं  ? साल- 1947 यह समय था, की भारत और पाकिस्तान दो अलग देश बन रहे थे। जहां मुसलमानो ने अलग राष्ट्र पाकिस्तान बनाने के लिए हिन्दुओ का नरसंहार किया, वहीं बर्मा के मुसलमान बौद्धों का नरसंहार कर पूर्वी पाकिस्तान में शामिल होना …

आगे पढ़िए »

भगवा पेहन WWE रिंग में लड़ने वाली पहली भारतीय कविता देवी

WWE Kavita Devi

नई दिल्ली: WWE में लड़ने वालीं ग्रेट खली की शिष्या कविता देवी पहली भारतीय महिला | कविता का  WWE ने ऑफिशियल यूट्यूब चैनल पर कविता की फाइट का पहला वीडियो जारी किया है|  इस वीडियो में कविता न्यूजीलैंड की रैसलर डकोटा काई के साथ रिंग में लड़ती हुई नजर आ …

आगे पढ़िए »

रावलपिंडी शहर को इस हिन्दू राजा ने बनवाया था – भप्पा रावल

रावलपिंडी शहर को इस हिन्दू राजा ने बनवाया था - भप्पा रावल

गुरुग्राम – रावलपिंडी शहर , पाकिस्तान के पंजाब प्रांत का एक ज़िला है। इसका प्रशासनिक मुख्यालय, रावलपिंडी शहर है। यहाँ बोले जाने वाली प्रमुख भाषा पंजाबी है, जबकि उर्दू प्रायः हर जगह समझी जाती है। साथ ही अंग्रेज़ी भी अधिकांश शहरी केन्द्रों में समझी जाती है। प्रभुख प्रशासनिक भाषाएँ उर्दू और अंग्रेज़ी …

आगे पढ़िए »

शैतान सिंह – 1962 जंग की उन्कही शौर्य गाथा

शैतान सिंह - 1962 जंग की उन्कही शौर्य गाथा

शैतान सिंह – 1962 जंग की उन्कही शौर्य गाथा ◆1963★ भारतीय कवि प्रदीप दिल्ली की सड़कों पे घूम रहे थे, पर एक दर्द उन्हें खाये जा रहा था..! एक पान वाले से उन्होंने सिगरेट की खाली डिबिया ली , और पेन से उस पर लिख दिया वो अमर गीत जिसे …

आगे पढ़िए »