Sunday , October 22 2017
Home / Trending Now / अगर नहीं करोगे चीनी समान का बहिष्कार तो भुगतने होंगे ये परिणाम |
अगर नहीं करोगे चीनी समान का बहिष्कार तो भुगतने होंगे ये परिणाम |
अगर नहीं करोगे चीनी समान का बहिष्कार तो भुगतने होंगे ये परिणाम |

अगर नहीं करोगे चीनी समान का बहिष्कार तो भुगतने होंगे ये परिणाम |

चीन एक ऐसा देश है जिससे आज भारत ही नहीं पूरा एशिया परेशान हुआ पड़ा है | इसका मुख्य कारण है चीन की विस्तारवाद की निति और वामपंथी सोच | चीन आज भारत को हर प्रकार से चुनोती दे रहा है चाहे वो भारत के आन्तरिक मामलें हों या फिर सीमा विवाद |  यही नहीं चीन भारत के आन्तरिक मामलों जैसे जम्मू और कश्मीर पर भी पाकिस्तान का साथ देता है और तो और नक्सलवाद को भी बड़ाव देता है और उन्हें हथियार भी देता है , ऊपर से ये देश भारत के बाज़ार को भी कमज़ोर कर रहा है जिसके कारण आज हर जगह चीन की सस्ती चीज़ें देखने को मिलती है और भारत के उद्योग खत्म हो रहें हैं |

चीन से व्यापार है घाटे का सोदा : 

  • भारत का चीन से व्यापार 70.8 बिलियन डॉलर का है जिसमे से भारत 58.33 बिलियन डॉलर का आयात करता है और केवल 11.76 डॉलर का निर्यात करता है जिसमें से ज्यादा तर कच्चा माल है |
  • भारत के आयात का ३६ प्रतिशत हिस्सा मिशनरी है | इसके इलावा मोबाइल , खिलौने , सिल्क , बिजली की लड़िया शामिल हैं |

चीनी समान के भारत के बजारों पर असर : 

  • एक  रिपोर्ट के अनुसार २०१४ तक २००० से अधिक छोटे बड़े उद्योग बंद हो चुकें है जिसमे 40 प्रतिशत खिलौनों के कारखाने बंद हो गये हैं |
  • अमृतसर में टूल कारखानों, इसका बहुत ही गहरा प्रभाव पड़ा है जो बंद होने की कगार पर हैं इसके अलावा हवा बनाने के पंप के कारखाने भी बंद हो चुकें हैं |
  • जालंधर में वाल्वस , पाईप , रबड़ की चप्पल बनाने के कारखाने भी चीनी सामान की मार झेल रहें हैं |
  • पंजाब के कई अन्य कारखाने जैसे गोबिन्दगढ़ के स्टील के कारखाने और बटाला के कारखाने भी प्रभावित हुयें हैं |

आम जनता का सहयोग : 

  • सभी लोग चीनी सामान का जितना हो सके कम प्रयोग करें खास तोर पर त्योहारों के दिनों में और अन्य कोगों को भी जागरूक करें |
  • सभी संगठनों को साथ लेकर चीनी सामान का बहिष्कार करें |
  • भारत की बनी हुई चीजों को पहले एहमियत दें |
  • व्यापारियों को सिर्फ भारत में बना सामान ही रखना चाहिये |