Wednesday , April 25 2018
Home / Trending Now / वीर बालक जिसने शकों और हूणों को भारत से खदेड़ा |
वीर बालक जिसने शकों और हूणों को भारत से खदेड़ा |
वीर बालक जिसने शकों और हूणों को भारत से खदेड़ा |

वीर बालक जिसने शकों और हूणों को भारत से खदेड़ा |

शक और हुण एसी जातीया थी जिनके लोग बहुत ही क्रूर और निर्दयी थे | इन्होने चीन को ही नहीं बल्कि यूरोप को पूरी तरह से तबाह कर दिया था | रोम जैसा साम्राज्य भी इनके सामने नहीं टिक सका | सम्राट ने उन्हें कहा की हूण बहुत ही निर्दय लोग है और अभी तुम एक बालक हो | लेकिन बालक कहाँ मानने वाले थे | सम्राट उन्हें युद्ध में भेजने के लिए मान गये |

Read this : रुद्राक्ष और भगवा वस्त्र पहन कर हत्या करता था अली शेर

दो लाख की सेना के साथ बालक स्कन्दगुप्त को भी भेजा गया | मगध की सेना पटना से होते हुए पंजाब से हिमालय की और  चड़ाई करने लगे | वीर सैनिक ठंड की परवाह किये बिना युद्ध करने के लिए आगे बड़ते चले गये | वीर बालक स्कन्दगुप्त और मगध की सेना को अपनी तरफ आते देख हूण हैरान रह गये क्युकी किसी ने भी आज तक हूणों पर पहले हमला करने की नहीं सोची थी | हूणों ने जब एक छोटे बालक को नंगी तलवार लिए हुए और लगातार शंख बजाते हुए देखा तो वे हैरान रह गये | वीर बालक ने हूणों की लाशो के ढेर लगा लगा दिए , वे जहाँ से भी गुजरते हा हा कार मच जाती | कुछ समय बाद हूणों ने अपनी पराजय स्वीकार कर ली और बाग गये | बालक स्कन्दगुप्त और भारत की विजय हुई |वीर बालक का बहुत ही भव्य स्वागत किया गया और वे आगे चलकर भारत के सम्राट बने | उन्होंने  ईरान और अफगानिस्तान तक अपनी सीमाओं का विस्तार किया | उन्हीने अश्वमेध यगय भी किया था |

Read this : बलात्कारी पादरी को चर्च ने दी माफी