Monday , November 20 2017
Home / इतिहास

इतिहास

वो युद्ध जहाँ 10000 अफगान काटे गये- Battle of Saraighat

Battle of Saraighat

Battle of Saraighat बख्तियार खिलजी अपने आक्रमणों से इतने होंसले में था की अब वो तिब्बत पर भी अपना अधिकार जमाना चाहता था और कट्टर इस्लामी धर्म को फैलाना चाहता था | तिब्बत से पहले उसे असम से होकर जाना था और अहोम साम्राज्य एक बड़ी चुनोती थी | वो …

आगे पढ़िए »

रावलपिंडी शहर को इस हिन्दू राजा ने बनवाया था – भप्पा रावल

रावलपिंडी शहर को इस हिन्दू राजा ने बनवाया था - भप्पा रावल

गुरुग्राम – रावलपिंडी शहर , पाकिस्तान के पंजाब प्रांत का एक ज़िला है। इसका प्रशासनिक मुख्यालय, रावलपिंडी शहर है। यहाँ बोले जाने वाली प्रमुख भाषा पंजाबी है, जबकि उर्दू प्रायः हर जगह समझी जाती है। साथ ही अंग्रेज़ी भी अधिकांश शहरी केन्द्रों में समझी जाती है। प्रभुख प्रशासनिक भाषाएँ उर्दू और अंग्रेज़ी …

आगे पढ़िए »

एक ऐसे राजा जिन्होंने इस्लामिक हमलावरों की ईट से ईट बजी दी : राजा कृष्णदेवराये

एक ऐसे राजा जिन्होंने इस्लामिक हमलावरों की ईट से ईट बजी दी : राजा कृष्णदेवराये

राजा कृष्णदेवराये एक ऐसे महान राजा थे जिन्होंने विजयनगर की सत्ता हाथ में लेते ही उसको शिखर तक पहुंचा दिया था | उन्होंने 1509 में विजयनगर की सत्ता सम्भाली थी | जब कृष्णदेवराये का राज्य अभिषेक हुआ उसी समय सुल्तान युसूफ शाह ने जिहाद की घोषणा कर दी | आदिलशाह …

आगे पढ़िए »

पंजाब का सनातनी इतिहास , भाग-3

पंजाब का सनातनी इतिहास , भाग-3

महर्षि वेद व्यास और महाभारत : व्यास जी ने ही वेदों का संकलन , विभाजन , और सम्पादन किया था | व्यास एक व्यक्ति न हो कर उपाधि मात्र है | ऐसे ही एक व्यास कृष्ण द्वयेपायन व्यास हैं | सत्यवती में उनका जन्म पिता परासर मुनि के घर हुआ …

आगे पढ़िए »

पंजाब का सनातनी इतिहास , भाग-2

पंजाब का सनातनी इतिहास , भाग-2

गायत्री मंत्र : विश्वामित्र मुनि ने पंजाब में ही गायत्री मंत्र की रचना की थी | यही नहीं इसी पावन धरती पर ही महर्षि पाणिनि ने संस्कृत की व्याकरण की रचना की थी और तो और चाणक्य और चरक ऋषि भी इसी धरती की ही सन्तान थे | Read this …

आगे पढ़िए »

पंजाब का सनातनी इतिहास , भाग-1

पंजाब का सनातनी इतिहास , भाग-1

गुरुग्राम :  पंजाब का सनातनी इतिहास , भाग-1 – पंजाब एक एसी धरती है जहाँ हिन्दू धर्म के अनेक अंश आज भी मौजूद हैं | ये धरती वैदिक और पौराणिक महत्वता भी रखती है | आइये जानते है पंजाब के हिन्दू इतिहास को  : Read this : पीरों और फकीरों …

आगे पढ़िए »

दक्षिण भारतीय का महेशासुर इसने रामायण- पुराण जलाए – पेरियार

दक्षिण भारतीय का महेशासुर इसने रामायण- पुराण जलाए - पेरियार

पेरियार – दक्षिण भारत का शर्म। – Shame Of Hinduism – Periyar E. V. Ramasamy पेरियार ने कांग्रेस से अलग हटकर 1926 में आत्म सम्मान आंदोलन की शुरूआत की थी। आत्मसम्मान आंदोलन का प्रारंभ जाति व्यवस्था की समाप्ति, व नई वैवाहिक व सामाजिक व्यवस्था की रचना पर आधारित थी। धार्मिक …

आगे पढ़िए »

गाँव जहाँ हुआ था भगवान हनुमान जी का जन्म : आंजन धाम |

गाँव जहाँ हुआ था भगवान हनुमान जी का जन्म : आंजन धाम |

श्री राम भक्त हनुमान जी के जन्म का इतिहास भारत के राज्य झारखड से जुड़ा हुआ है | श्री राम भक्त हनुमान जी का जन्म झारखण्ड के गुमला जिले के एक आंजन धाम नामक गॉव में हुआ था | यह गॉंव  जिला मुख्यालय से लगभग 20 किमी की दुरी पर जंगलों …

आगे पढ़िए »

अयोध्या की कहानी जिसे पढ़कर आप रो पड़ेंगे।

अयोध्या की कहानी जिसे पढ़कर आप रो पड़ेंगे।

अयोध्या की कहानी जिसे पढ़कर आप रो पड़ेंगे। कृपया इस लेख को पढ़ें, तथा प्रतेक  हिन्दूँ मिञों को अधिक से अधिक शेयर करें। जब बाबर दिल्ली की गद्दी पर आसीन हुआ उस समय जन्मभूमि सिद्ध महात्मा श्यामनन्द जी महाराज के अधिकार क्षेत्र में थी। महात्मा श्यामनन्द की ख्याति सुनकर ख्वाजा कजल …

आगे पढ़िए »

वैलेंटाइन डे की पूरी सच्चाई

Reality Of Valentine Day

वैलेंटाइन डे की पूरी सच्चाई आज पूरे देश में वैलेंटाइन डे मनाया जायगा और भारतीय संस्कृति की धज्जिया उड़ाई जायगी लेकिन क्या आप जानते है वास्तव में वैलेंटाइन डे क्यों मनाया जाता है ? आइये जानते है वैलेंटाइन डे की पूरी सच्चाई । यूरोप और अमेरिका में आपको शायद ही …

आगे पढ़िए »

इस हिन्दू योधा ने किया थाशहाबुद्दीन गौरी को परास्त : धीर पुण्डीर

धीर पुण्डीर Raja Pundhir

विजयादशमी पर विशेष बल प्रदर्शन करने के लिए सम्राट पृथ्वीराज चौहान ने आठ गज ऊँचा, आठ रेखाओं से युक्त अष्ट धातु का तीस मन लोह युक्त एक स्तम्भ बनवा कर गड़वा दिया, जिसे चुने हुए वीरों को घोड़े पर सवार होकर लोहे की सांग से उखाड़ना था| पृथ्वीराज स्वयं इस …

आगे पढ़िए »

वो मोहियाल ब्राह्मण जो इमाम हुसैन के लिए मरने तक लढ़े

वो मोहियाल ब्राह्मण जो इमाम हुसैन के लिए मरने तक लढ़े

महाभारत कालीन अश्वत्थामा से जुड़ी एक मान्यता के अनुसार ब्राह्मण का यह एक ऐसा वर्ग है जो अपने को मोहियाल ब्राह्मण कहलाने में गर्व महसूस करता है। मोहियाल ब्रह्मिनो को हुस्सैनी ब्राह्मण भी कहा जाता है | जो शुरुआत  से शिव के भगत हुए हैं और बहुत जबरदस्त लड़ाकू हुए …

आगे पढ़िए »

मराठा जाति में भगवान महादेव का जन्म (अवतार) ?

मराठा जाति में भगवान महादेव का जन्म (अवतार) ?

मराठा जाति की उत्त्पत्ति द्वापर युग में महाभारत के युद्ध के पश्चात हुई | मराठा जाति का निर्माण व्यास ऋषि , शुक ऋषि , ऋषि वामदेव तथा अन्य ऋषि गणो ने मिल कर किया , मराठा जाति का मूल वंश सूर्यवंश है या मराठा जाति के पहले सूर्यवंशी के नाम से …

आगे पढ़िए »