Friday , July 28 2017
Home / इतिहास

इतिहास

दक्षिण भारतीय का महेशासुर इसने रामायण- पुराण जलाए – पेरियार

दक्षिण भारतीय का महेशासुर इसने रामायण- पुराण जलाए - पेरियार

पेरियार – दक्षिण भारत का शर्म। – Shame Of Hinduism – Periyar E. V. Ramasamy पेरियार ने कांग्रेस से अलग हटकर 1926 में आत्म सम्मान आंदोलन की शुरूआत की थी। आत्मसम्मान आंदोलन का प्रारंभ जाति व्यवस्था की समाप्ति, व नई वैवाहिक व सामाजिक व्यवस्था की रचना पर आधारित थी। धार्मिक …

आगे पढ़िए »

गाँव जहाँ हुआ था भगवान हनुमान जी का जन्म : आंजन धाम |

गाँव जहाँ हुआ था भगवान हनुमान जी का जन्म : आंजन धाम |

श्री राम भक्त हनुमान जी के जन्म का इतिहास भारत के राज्य झारखड से जुड़ा हुआ है | श्री राम भक्त हनुमान जी का जन्म झारखण्ड के गुमला जिले के एक आंजन धाम नामक गॉव में हुआ था | यह गॉंव  जिला मुख्यालय से लगभग 20 किमी की दुरी पर जंगलों …

आगे पढ़िए »

अयोध्या की कहानी जिसे पढ़कर आप रो पड़ेंगे।

अयोध्या की कहानी जिसे पढ़कर आप रो पड़ेंगे।

अयोध्या की कहानी जिसे पढ़कर आप रो पड़ेंगे। कृपया इस लेख को पढ़ें, तथा प्रतेक  हिन्दूँ मिञों को अधिक से अधिक शेयर करें। जब बाबर दिल्ली की गद्दी पर आसीन हुआ उस समय जन्मभूमि सिद्ध महात्मा श्यामनन्द जी महाराज के अधिकार क्षेत्र में थी। महात्मा श्यामनन्द की ख्याति सुनकर ख्वाजा कजल …

आगे पढ़िए »

वैलेंटाइन डे की पूरी सच्चाई

Reality Of Valentine Day

वैलेंटाइन डे की पूरी सच्चाई आज पूरे देश में वैलेंटाइन डे मनाया जायगा और भारतीय संस्कृति की धज्जिया उड़ाई जायगी लेकिन क्या आप जानते है वास्तव में वैलेंटाइन डे क्यों मनाया जाता है ? आइये जानते है वैलेंटाइन डे की पूरी सच्चाई । यूरोप और अमेरिका में आपको शायद ही …

आगे पढ़िए »

इस हिन्दू योधा ने किया थाशहाबुद्दीन गौरी को परास्त : धीर पुण्डीर

धीर पुण्डीर Raja Pundhir

विजयादशमी पर विशेष बल प्रदर्शन करने के लिए सम्राट पृथ्वीराज चौहान ने आठ गज ऊँचा, आठ रेखाओं से युक्त अष्ट धातु का तीस मन लोह युक्त एक स्तम्भ बनवा कर गड़वा दिया, जिसे चुने हुए वीरों को घोड़े पर सवार होकर लोहे की सांग से उखाड़ना था| पृथ्वीराज स्वयं इस …

आगे पढ़िए »

वो मोहियाल ब्राह्मण जो इमाम हुसैन के लिए मरने तक लढ़े

वो मोहियाल ब्राह्मण जो इमाम हुसैन के लिए मरने तक लढ़े

महाभारत कालीन अश्वत्थामा से जुड़ी एक मान्यता के अनुसार ब्राह्मण का यह एक ऐसा वर्ग है जो अपने को मोहियाल ब्राह्मण कहलाने में गर्व महसूस करता है। मोहियाल ब्रह्मिनो को हुस्सैनी ब्राह्मण भी कहा जाता है | जो शुरुआत  से शिव के भगत हुए हैं और बहुत जबरदस्त लड़ाकू हुए …

आगे पढ़िए »

मराठा जाति में भगवान महादेव का जन्म (अवतार) ?

मराठा जाति में भगवान महादेव का जन्म (अवतार) ?

मराठा जाति की उत्त्पत्ति द्वापर युग में महाभारत के युद्ध के पश्चात हुई | मराठा जाति का निर्माण व्यास ऋषि , शुक ऋषि , ऋषि वामदेव तथा अन्य ऋषि गणो ने मिल कर किया , मराठा जाति का मूल वंश सूर्यवंश है या मराठा जाति के पहले सूर्यवंशी के नाम से …

आगे पढ़िए »

जानें बलूचिस्तान का हिन्दू इतिहास और अखंड भारत के लिए उसका महत्व

importance-of-balochistan-for-hinduism-and-akhand-bharat

जानें बलूचिस्तान का हिन्दू इतिहास और अखंड भारत के लिए उसका महत्व भारत का इतिहास विश्व में सबसे प्राचीन इतिहास है। कुछ समय पहले तक अफगानिस्तान, बलूचिस्तान, पाकिस्तान, आदि सब स्थान भारत के हिस्से थे। ‘अखंड भारत’ अर्थात् भारत समेत वो तमाम स्थान जो कभी भारत में आते थे। मगर …

आगे पढ़िए »

भारतीय तिरंगे का इतिहास

“सभी राष्‍ट्रों के लिए एक ध्‍वज होना अनिवार्य है। लाखों लोगों ने इस पर अपनी जान न्‍यौछावर की है। यह एक प्रकार की पूजा है, जिसे नष्‍ट करना पाप होगा। ध्‍वज एक आदर्श का प्रतिनिधित्‍व करता है। यूनियन जैक अंग्रेजों के मन में भावनाएं जगाता है जिसकी शक्ति को मापना …

आगे पढ़िए »