Friday , July 28 2017
Home / व्यक्तित्व

व्यक्तित्व

वीर बालक जिसने शकों और हूणों को भारत से खदेड़ा |

वीर बालक जिसने शकों और हूणों को भारत से खदेड़ा |

शक और हुण एसी जातीया थी जिनके लोग बहुत ही क्रूर और निर्दयी थे | इन्होने चीन को ही नहीं बल्कि यूरोप को पूरी तरह से तबाह कर दिया था | रोम जैसा साम्राज्य भी इनके सामने नहीं टिक सका | सम्राट ने उन्हें कहा की हूण बहुत ही निर्दय …

आगे पढ़िए »

कितना जानतें है आप देवऋषि नारद जी को ? आइये जानतें है उनके बारे में

कितना जानतें है आप नारद जी को ? आइये जानतें है उनके बारे में

नारद जयंती पर हार्दिक शुभकामनाएँ अपने समाचार तथा विचारों से समाज को धर्म आधारित जीवन जीने की प्रेरणा देने वाले देवता हमारे आदर्श है | देवऋषि नारद हिन्दू शास्त्रों के अनुसार, ब्रह्मा के सात मानस पुत्रों में से एक है। उन्होने कठिन तपस्या से ब्रह्मर्षि पद प्राप्त किया है। वे …

आगे पढ़िए »

550 साल जीवित रहे श्री देवरहा बाबा

Brahmrishi Shri Devraha Baba

भारत के उत्तर प्रदेश के देवरिया जनपद में एक योगी, सिद्ध महापुरुष एवं सन्तपुरुष थे देवरहा बाबा‌‍| डॉ॰ राजेन्द्र प्रसाद, महामना मदन मोहन मालवीय, पुरुषोत्तमदास टंडन, जैसी विभूतियों ने पूज्य देवरहा बाबा के समय-समय पर दर्शन कर अपने को कृतार्थ अनुभव किया था‌‍| पूज्य महर्षि पातंजलि द्वारा प्रतिपादित अष्टांग योग …

आगे पढ़िए »

Swami Vivekananda Movie | Saffron Tigers |

आज स्वामी विवेकानंद जी के जन्मदिवस पर सैफरन टैगेर्स कि तरफ से उनको छोटी सी भेंट. स्वामी विवेकानंद से पर बनी हुई छोटी सी फिल्म जरुर देखिएं और शेयर करिए | Open link for subscribe and videos :  Saffron Tigers Youtube channel

आगे पढ़िए »

भगत सिंह-आजाद जी जेसे क्रांतिकारियों के मार्ग दर्शक थे लाला लाजपत राय

भगत सिंह-आजाद जी जेसे क्रांतिकारियों के मार्ग दर्शक थे लाला जी

लाला लाजपत राय भारत के एक प्रमुख स्वतंत्रता क्रांतिकारी थे। इन्हें पंजाब केसरी भी कहा जाता है। इन्होंने पंजाब नैशनल बैंक और लक्ष्मी बीमा कम्पनी की स्थापना भी की थी। ये भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में गरम दल के तीन प्रमुख नेताओं लाल-बाल-पाल में से एक थे। “साइमन गो बेक – मेरे …

आगे पढ़िए »

बाबा हट परा जी महाराज : महान संत

भारतवर्ष सदा से ही अध्यातम की धरती रहा है ! इस भारत में भी पंजाब के संतो का तो क्या कहना इस धरती को वीर भूमि कहा जाता है क्योंकि इस धरती के लोग ज़ुल्म के खिलाफ आवाज़ उठाना जानते है ! फिर चाहे वो हिन्दोस्तान का पंजाब हो या पाकिस्तान का …

आगे पढ़िए »

कौन है आदि शंकराचार्य जी महाराज ?

आदि शंकराचार्य (अंग्रेज़ी: Adi Shakaracharya, जन्म नाम: शंकर, जन्म: 788 ई. – मृत्यु: 820 ई.) अद्वैत वेदान्त के प्रणेता, संस्कृत के विद्वान, उपनिषद व्याख्याता और हिन्दू धर्म प्रचारक थे। हिन्दू धार्मिक मान्यता के अनुसार इनको भगवान शंकर का अवतार माना जाता है। इन्होंने लगभग पूरे भारत की यात्रा की और …

आगे पढ़िए »