Monday , September 25 2017
Home / धर्म

धर्म

शिव मन्दिर जहाँ रोज होता है एक नया पुजारी वो भी अलग-अलग जाति का

शिव मन्दिर जहाँ रोज होता है एक नया पुजारी वो भी अलग-अलग जाति का

उत्तरप्रदेश के फैजावाद जिले के गाँव में एक सिधेश्वर मन्दिर है | इस मन्दिर की सबसे बड़ी बात यह है की इसके कारण आज वहां का हिन्दू गर्व के साथ रह सकता है | इस गाँव में मुस्लिमों के कारण हिन्दू लोग अपने ग्राम देवता के मन्दिर में घंटी तक …

आगे पढ़िए »

शास्त्रों के अनुसार इन खूबियों को बोला गया है सच्चे मित्र की निशानी

शास्त्रों के अनुसार इन खूबियों को बोला गया है सच्चे मित्र की निशानी

दूसरों के सामने आपका सम्मान करना : सच्चे मित्र की सबसे बड़ी निशानी ये है की वो हमेशा आपके पीछे और किसी के भी सामने आपके गुणों  की तारीफ करेगा और आपको कभी भी किसी के सामने नीचा नहीं दिखायेगा | मुश्किल हालातों में सहायता देना : एक सच्चा मित्र …

आगे पढ़िए »

जानें क्यों एक रात के लिए पुनर्जीवित हुए थे महाभारत युद्ध में मारे गए वीर

महाभारत युद्ध के लिए जानें क्यों एक रात के लिए पुनर्जीवित हुए थे महाभारत युद्ध में मारे गए वीरको ही क्यों चुना था भगवान कृष्ण ने |

आज हम आपको महाभारत से जुडी एक अदभुत घटना के बारे में बता रहे है जब महाभारत युद्ध में मारे गए समस्त शूरवीर जैसे  एक रात के लिए पुनर्जीवित हुए थे यह घटना महाभारत युद्ध ख़त्म होने के 15 साल बाद घटित हुई थी। राजा बनने के पश्चात हस्तिनापुर में …

आगे पढ़िए »

वो काम जिनसे घटती है व्यक्ति की उम्र

वो काम जिनसे घटती है व्यक्ति की उम्र

महाभारत में एक प्रसंग आता है जिसमें विदुर ने धर्तराष्ट्र को मनुष्य की आयु कम करने वाले कारण बताएं है | ये है कारण : क्रोध : क्रोध मनुष्य का सबसे बड़ा दुश्मन है | गीता में भी लिखा गया है की जिसने अपने क्रोध पर विजय प्राप्त कर ली वो …

आगे पढ़िए »

जब श्री रामभक्त हनुमान जी ने तोड़ा था भीम का घमंड |

जब श्री रामभक्त हनुमान जी ने तोड़ा था भीम का घमंड |

जब पांडव अपना सब कुछ हार गये तो वे अपने शाही वस्त्र त्यागकर भगवे कपड़े पहनकर वनों में रहने लगे | एक दिन एक कमल का फूल हवा के कारण माता द्रोपदी के पास आ गया और उन्होंने भीम से इस कमल को ले आने  के लिए कहा | वे …

आगे पढ़िए »

हनुमानपुत्र जिनकी होती है इन मन्दिरों में पूजा : मकरद्वाज

हनुमानपुत्र जिनकी होती है इन मन्दिरों में पूजा : मकरद्वाज

हम सभी को ये पता है की भगवान हनुमान जी ब्र्म्चारी थे | लेकिन उनका एक पुत्र भी था जिसका नाम था मकरद्वज | जब हनुमान जी लंका में श्री राम जी का संदेश सीता माता को देने जातें है तो उनको बंदी बना लिया जाता है और रावण के …

आगे पढ़िए »

गाँव जहाँ हुआ था भगवान हनुमान जी का जन्म : आंजन धाम |

गाँव जहाँ हुआ था भगवान हनुमान जी का जन्म : आंजन धाम |

श्री राम भक्त हनुमान जी के जन्म का इतिहास भारत के राज्य झारखड से जुड़ा हुआ है | श्री राम भक्त हनुमान जी का जन्म झारखण्ड के गुमला जिले के एक आंजन धाम नामक गॉव में हुआ था | यह गॉंव  जिला मुख्यालय से लगभग 20 किमी की दुरी पर जंगलों …

आगे पढ़िए »

महाभारत युद्ध के लिए कुरुक्षेत्र को ही क्यों चुना था भगवान कृष्ण ने |

महाभारत युद्ध के लिए जानें क्यों एक रात के लिए पुनर्जीवित हुए थे महाभारत युद्ध में मारे गए वीरको ही क्यों चुना था भगवान कृष्ण ने |

हम सभी को पता है की महाभारत का युद्ध कुरुक्षेत्र में लड़ा गया था । युद्ध के लिए श्री कृष्ण जी ने स्वयं कुरुक्षेत्र को चुना था | लेकिन उन्होंने कुरुक्षेत्र को ही महाभारत युद्ध के लिए क्यों चुना इसकी कहानी कुछ इस प्रकार है। जब महाभारत युद्ध होने का …

आगे पढ़िए »

पाकिस्तान के इस मंदिर में नवरात्रों में मुस्लिम भी जलाते है माता रानी कि ज्योत : हिंगलाज माता

पाकिस्तान के इस मंदिर में नवरात्रों में मुस्लिम भी जलाते है माता रानी कि ज्योत : हिंगलाज माता

हिंगलाज माता  : जब भगवान शिव सती माता के मृत शरीर को लेकर तांडव करने लगे तो तीनो लोकों में विनाश होने लगा , इस विनाश को रोकने के लिए भगवान् विष्णु ने अपने सुदर्शन चक्र से माता सती के शरीर को 51 भागों में बांट दिया | माता सती …

आगे पढ़िए »

क्यों जलाया गया नालन्दा विश्वविद्यालय ?

क्यों जलाया गया नालन्दा विश्वविद्यालय ?

गुरुग्राम : बख्तियार खिलजी ने 1199 को विश्व प्रसिद्ध नालन्दा विश्वविद्यालय को जला कर पूर्णतः नष्ट कर दिया | उसके पीछे का कारण उसका सनकीपन और गुस्सा था । एक बार वह बहुत बीमार पड़ा और उसके हकीमों ने उसको ठीक करने की पूरी कोशिश की लेकिन वह ठीक नहीं हो सका …

आगे पढ़िए »

छतरपुर मंदिर या श्री अध्‍य कात्‍यानी शक्ति पीठ

छतरपुर मंदिर या श्री अध्‍य कात्‍यानी शक्ति पीठ

कात्‍यानी छतरपुर मंदिर या श्री अध्‍य कात्‍यानी शक्ति पीठ , दक्षिण दिल्‍ली में छतरपुर में स्थित है जो भारत का दूसरा सबसे बड़ा मंदिर परिसर है। यह मंदिर देवी कात्‍यायनी, जो देवी दुर्गा का छठां स्‍वरूप है को समर्पित है। अन्‍य मंदिरों के विपरीत इस मंदिर में हर जाति और …

आगे पढ़िए »

गंगा में विसर्जित अस्थियां आखिर जाती कहां हैं?

गंगा में विसर्जित अस्थियां आखिर जाती कहां हैं?

गुरुग्राम : गंगा नदी इतनी पवित्र है की प्रत्येक हिंदू की अंतिम इच्छा होती है उसकी अस्थियों का विसर्जन गंगा में ही किया जाए लेकिन यह अस्थियां जाती कहां हैं? इसका उत्तर तो वैज्ञानिक भी नहीं दे पाए क्योंकि असंख्य मात्रा में अस्थियों का विसर्जन करने के बाद भी गंगा …

आगे पढ़िए »

कौन हैं भगवान अरावन ? जिनके होती है हिजड़ों के साथ शादी ?

कौन हैं भगवान अरावन ? जिनके होती है हिजड़ों के साथ शादी ?

कौन हैं भगवान अरावन ? जिनके  होती है हिजड़ों के साथ शादी ? Gurugram :  भारत के तमिलनाडु राज्य में  देवता अरावन की पूजा की जाती है। कई जगह इन्हे इरावन के नाम से भी जाना जाता है। अरावन हिंजड़ो के देवता है इसलिए दक्षिण भारत में हिंजड़ो को अरावनी …

आगे पढ़िए »