Sunday , October 22 2017
Home / Trending Now / ये है गौरी लंकेश का क़ातिल, नाम सुनकर कांग्रेस के छूटे पसीने
Gauri Lankesh
Gauri Lankesh

ये है गौरी लंकेश का क़ातिल, नाम सुनकर कांग्रेस के छूटे पसीने

नई दिल्ली : आरएसएस और बीजेपी के खिलाफ पत्रकारिता करने वाली वामपंथी पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या होने के बाद तेजी से कांग्रेस ने इसका आरोप हिंदूवादी संगठनों पर लगाया था. यहाँ तक की खुद राहुल गांधी ने इसके लिए पीएम मोदी से जवाब तलब कर लिया था. मगर अब गौरी लंकेश की हत्या के मामले में खुलासा होने के बाद कांग्रेस के होंठ सिल गए हैं.

नक्सली नेता विक्रम गौड़ा ने की हत्या ! Gauri Lankesh Murderer

Read This RSS में शामिल होंगे रजनीकांत , दक्षिण में हिंदुत्व कि लहर

कन्नड़ न्यूज़ चैनल सुवर्ण टीवी ने खुलासा किया है कि गौरी लंकेश की हत्या किसी और ने नहीं बल्कि नक्सली नेता विक्रम गौड़ा ने की है. चैनल का दावा है कि कर्नाटक सरकार द्वारा बनाई गई एसआईटी को भी इस बारे में पक्के सुराग मिले हैं. अब जांच का सारा फोकस इसी एंगल पर आ गया है. अब सवाल ये है कि क्या राहुल गांधी और कांग्रेस के तमाम नेता व् सभी डिज़ाइनर पत्रकार अब पीएम मोदी से माफ़ी मांगेगे?
क्योंकि एसआईटी के मुताबिक़ जिस तरह से हत्या की गयी है, उसमे नक्सलियों का हाथ साफ दिखाई दे रहा है. गौरी लंकेश नक्सलियों को मेन स्ट्रीम में लाने की कोशिश कर रही थी, जो नक्सली नेताओं को नागवार गुजरा. इस खुलासे ने दिल्ली में बैठे नक्सली पत्रकारों की भी पोल खोल के रख दी है, जिन्होंने हत्या के फौरन बाद हिंदुत्ववादी संगठनों पर दोष मढ़ दिया था.

नक्सलियों की नाराज़गी मोल ली !

Read This : गौरी लंकेश का अंतिम लेख पीएम मोदी के खिलाफ

सुवर्ण टीवी चैनल की रिपोर्ट के मुताबिक़ पिछले कुछ वर्षों में गौरी लंकेश की पहल से कई बड़े नक्सलियों ने आत्म समर्पण किया था. लंकेश बीजी कृष्णमूर्ति, लता मुंडरेगा और प्रभा जैसे नक्सली गुटों को हथियार छोड़ने के लिए मना रही थीं. यही वजह है कि कट्टरपंथी नक्सली नेताओं को उनसे ख़तरा दिखने लगा और उन्होंने लंकेश को रास्ते से हटा दिया.

Gauri Lankesh Murderer

पूरे मामले में सबसे प्रमुख नाम है नक्सली कमांडर विक्रम गौड़ा का. दरअसल राज्य में नक्सलियों के 2 सबसे बड़े ग्रुप तुंग और भद्रा सक्रिय हैं. विक्रम गौड़ा भद्रा टीम का कमांडर है, जबकि कृष्णमूर्ति तुंग का कमांडर है. कर्नाटक के चिकमंगलूर इलाके में विक्रम गौड़ा के गुप का दबदबा है. जबकि उसके पड़ोस के शिमोगा में कृष्णमूर्ति ग्रुप की चलती है. चैनल ने नक्सलियों के हवाले से बताया कि गौरी लंकेश तुंग टीम के नक्सलियों के संपर्क में थीं और उन्हें आत्म समर्पण करने के लिए मना रही थीं.