Monday , December 11 2017
Home / Trending Now / पाकिस्तान में हिन्दुओं को नहीं करने दिया जाता अंतिम संस्कार , ऐसे करना पड़ता है अंतिम संस्कार
पाकिस्तान में हिन्दुओं को नहीं करने दिया जाता अंतिम संस्कार , ऐसे करना पड़ता है अंतिम संस्कार
पाकिस्तान में हिन्दुओं को नहीं करने दिया जाता अंतिम संस्कार , ऐसे करना पड़ता है अंतिम संस्कार

पाकिस्तान में हिन्दुओं को नहीं करने दिया जाता अंतिम संस्कार , ऐसे करना पड़ता है अंतिम संस्कार

पाकिस्तान एक एसा देश है जहाँ हिन्दुओं को निम्न दर्जा दिया गया है | इस बात का सबूत यहीं है की आज़ादी के वक्त से ही हिन्दुओं की संख्या लगातार घट रही है | यहीं नहीं पाकिस्तान में हिन्दू महिलाओं के साथ अमानवीय व्यवहार किया जाता है | इसके अलावा पाकिस्तान में हिन्दुओ के अनेक मन्दिर और पवित्र स्थानों को या तो तोड़ दिय गया है या फिर उनकी हालत बहुत ही गम्भीर है | लेकिन एक अन्य बात है जो वहां के हिन्दुओं को झेलनी पड़ रही है | आइये जानतें हैं उसके बारे में |

Read this : सिख खालिस्तानी संगठन कर रहे 15 अगस्त का विरोध भारतीय तिरंगा जलाया

पाकिस्तान में हिन्दुओं को अंतिम संस्कार करने में बहुत ही दिक्कत आ रही है | ऐसी ही एक बात  पाकिस्तान में 35००० हिन्दू – सिख आबादी वाले राज्य खैबर पख्तूनख्वाह की है जहाँ  कोई श्मशान घाट नहीं है | इसके कारण हिन्दुओं को अपने सम्बन्धियों का अंतिम संस्कार करने में बहुत ही मुश्किल का सामना करना पड़ता है | राज्य में कोई श्मशान घाट न होने के कारण उनको बहुत ही दूर अन्य राज्यों में जाना पड़ता है जिसके कारण उनका खर्च बहुत ही बड जाता है |

एक रास्ता उनके पास ये होता है की वे गर्म सिक्का शव की हथेली पर रख कर दाह संस्कार करें | क्युकी इतनी दूर की यात्रा करने के कारण 40 से 70 हजार खर्च आ जाता है जो की पाकिस्तान में निम्न दर्जा प्राप्त हिन्दुओं के लिए बहुत ही ज्यादा रकम है | एक अन्य कारण ये है वहाँ हिन्दुओं के मन्दिरों और शमशान घाटों पर भू-माफियाओं का कब्जा है | जिसके कारण आज पाकिस्तान के हिन्दुओं को न तो मन्दिर जाने की इजाजत है और न ही वे अपनो का दाह संस्कार अपने रीती रिवाजों के अनुसार कर सकतें हैं |

Read this : जानें क्यों एक रात के लिए पुनर्जीवित हुए थे महाभारत युद्ध में मारे गए वीर