Monday , November 20 2017
Home / धर्म / क्यूँ ? / जानें हाथ जोड़कर नमस्ते क्यों करते हैं ?
जानें हाथ जोड़कर नमस्ते क्यों करते हैं ?

जानें हाथ जोड़कर नमस्ते क्यों करते हैं ?

जानें हाथ जोड़कर नमस्ते क्यों करते हैं ?

हिन्दू धर्म में विशेष तौर पर जब किसी बड़े से मिलते हैं तो हाथ जोड़कर नमस्ते अथवा नमस्कार करते हैं। नमस्कार या प्रणाम करना एक सम्मान है, एक संस्कार है। प्रणाम करना एक यौगिक प्रक्रिया भी है।

 

दाहिना हाथ आचार अर्थात धर्म और बायां हाथ विचार अर्थात दर्शन का होता है। नमस्कार करते समय दायां हाथ बाएं हाथ से जुड़ता है। शरीर में दाईं ओर झड़ा और बांईं ओर पिंगला नाड़ी होती है। ऐसे में नमस्कार करते समय झड़ा, पिंगला के पास पहुंचती है और सिर श्रृद्धा से झुका हुआ होता है।

वैज्ञानिक तर्क –

बड़ों को हाथ जोड़कर नमस्ते करने का वैज्ञानिक महत्व भी है। नमस्कार मन, वचन और शरीर तीनों में से किसी एक के माध्यम से किया जाता है।

जब सभी उंगलियों के शीर्ष एक दूसरे के संपर्क में आते हैं और उन पर दबाव पड़ता है। एक्यूप्रेशर के कारण उसका सीधा असर हमारी आंखों, कानों और दिमाग पर होता है, ताकि सामने वाले व्यक्त‍ि को हम लंबे समय तक याद रख सकें।

दूसरा तर्क यह कि हाथ मिलाने (पश्च‍िमी सभ्यता) के बजाये अगर आप नमस्ते करते हैं तो सामने वाले के शरीर के कीटाणु आप तक नहीं पहुंच सकते। अगर सामने वाले को स्वाइन फ्लू भी है तो भी वह वायरस आप तक नहीं पहुंचेगा।

क्या सम्बन्ध है भगवान शिव का पशुपतिनाथ मंदिर के साथ ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *