Thursday , December 14 2017
Home / Trending Now / वो समाज जो गुंदवाते हैं शरीर पर राम नाम – Ramnami Samaj
वो समाज जो गुंदवाते हैं शरीर पर राम नाम - Ramnami Samaj
वो समाज जो गुंदवाते हैं शरीर पर राम नाम - Ramnami Samaj

वो समाज जो गुंदवाते हैं शरीर पर राम नाम – Ramnami Samaj

Ramnami Samaj History : 100 सालों से भी ज्यादा लंबे वक्त से छत्तीसगढ़ की रामनामी समाज में एक अनोखी परंपरा चली आ रही है। इस समाज के लोग पूरे शरीर पर राम नाम का टैटू बनवाते हैं, लेकिन न मंदिर जाते हैं और न ही मूर्ति पूजा करते हैं।

इस तरह के टैटू को लोकल लैंग्वेज में गोदना कहा जाता है। दरअसल, इसे भगवान की भक्ति के साथ ही सामाजिक बगावत के तौर पर भी देखा जाता है। टैटू बनवाने के पीछे बगावत की कहानी…

Ramnami Samaj Story in Hindi

– कहा जाता है कि 100 साल पहले गांव में हिन्दुओं के ऊंची जाति के लोगों ने इस समाज को मंदिर में घुसने से मना कर दिया था। इसके बाद से ही इन्होंने विरोध करने के लिए चेहरे सहित पूरे शरीर में राम नाम का टैटू बनवाना शुरू कर दिया।

क्या कहते हैं लोग…

*रामनामी समाज को रमरमिहा के नाम से भी जाना जाता है।

*जमगाहन गांव के महेतर राम टंडन इस परंपरा को पिछले 50 सालों से निभा रहे हैं।
*जमगाहन छत्तीसगढ़ के सबसे गरीब और पिछड़े इलाकों में से है।

*76 साल के रामनामी टंडन बताते हैं, जिस दिन मैंने ये टैटू बनवाया, उस दिन मेरा नया जन्म हो गया।

*50 साल बाद उनके शरीर पर बने टैटू कुछ धुंधले से हो चुके हैं, लेकिन उनके इस विश्वास में कोई कमी नहीं आई है।* नजदीकी गांव गोरबा में भी 75 साल की पुनई बाई इसी परंपरा को निभा रहीं हैं।

*पुनई बाई के शरीर पर बने टैटू को वह भगवान का किसी खास जाति का ना होकर सभी के होने की बात से जोड़ती हैं।

Ramnami Samaj History

टैटू बनवाने के साथ ही राम नाम लिखे कपड़े भी पहनते हैं रामनामी।

नई पीढ़ी ने खुद को इस परंपरा से दूर किया

*रामनामी जाति के लोगों की आबादी तकरीबन एक लाख है और छत्तीसगढ़ के चार जिलों में इनकी संख्या ज्यादा है। सभी में टैटू बनवान

Ramnami Samaj

प्रोफेसर बना 10 वर्षीय ये बालक, कंठस्त है श्रीमद्भागवत गीता के 700 श्लोक

समाज की दिलचस्प बातें… Next Page