Monday , December 11 2017
Home / Trending Now / शिव मन्दिर जहाँ रोज होता है एक नया पुजारी वो भी अलग-अलग जाति का
शिव मन्दिर जहाँ रोज होता है एक नया पुजारी वो भी अलग-अलग जाति का
शिव मन्दिर जहाँ रोज होता है एक नया पुजारी वो भी अलग-अलग जाति का

शिव मन्दिर जहाँ रोज होता है एक नया पुजारी वो भी अलग-अलग जाति का

उत्तरप्रदेश के फैजावाद जिले के गाँव में एक सिधेश्वर मन्दिर है | इस मन्दिर की सबसे बड़ी बात यह है की इसके कारण आज वहां का हिन्दू गर्व के साथ रह सकता है | इस गाँव में मुस्लिमों के कारण हिन्दू लोग अपने ग्राम देवता के मन्दिर में घंटी तक नहीं लगा सकते थे | इसका मुख्य कारण एक को मुस्लिम वोट बैंक की राजनीती थी जिसके कारण हिन्दू समाज का तुष्टिकरन हो रहा था | यहीं नही इसके कारण गाँव के सार्वजनिक जगह पर भी मस्जिद बना दी गई और मदरसा भी |

Read this : कश्मीर के 400 मन्दिरों को खा गई कांग्रेस और अब्दुला सरकार

इस चुनौती से उबरने के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के लोगों ने उस सार्वजनिक स्थान पर मन्दिर बनाने के लिए संकल्प किया और हर रोज वहां हनुमान चालीसा का पाठ करने लगे | फिर उस मन्दिर में मूर्ति स्थापना भी कर दी गई और बाद में  उद्घाटन किया गया जिसमें हजारों लोग शामिल हुए | मन्दिर बनने के बाद आज उस गाँव में हिन्दुओं में एकता का भाव है | यहीं नहीं आज मन्दिर में हर रोज हर वर्ग और जाती के लोग अपनी अपनी बारी से मन्दिर में पुँजरी के रूप में आरती करते हैं |

Read this : जानें क्यों एक रात के लिए पुनर्जीवित हुए थे महाभारत युद्ध में मारे गए वीर

शिवरात्रि के मोके पर पास से गांवों से हर साल 10000 से अधिक लोग आते हैं | यहीं नहीं माताएं और बहने सामूहिक रामचरितमानस का भी पाठ करतीं है जिसमें भरी संख्या में हिन्दू समाज इकट्ठा होता है | आज इस मन्दिर के कारण एक तो जातिवाद की दिवार टूटी है वहीं वहां का हिन्दू भी मजबूत हुआ है | एक समय जब वहां मुस्लिम लोग हिन्दुओं के त्योहारों में हमले करते थे आज हिन्दुओं के एक जुट होंने के कारण ये भी रुक गयें हैं | मन्दिर आज हिन्दुओं की एकता का प्रतीक बना हुआ है |

Read this : तरबूज सिर्फ फल नहीं दवा भी है , ऐसे करें इसका उपयोग