Monday , November 20 2017
Home / Trending Now / हनुमानपुत्र जिनकी होती है इन मन्दिरों में पूजा : मकरद्वाज
हनुमानपुत्र जिनकी होती है इन मन्दिरों में पूजा : मकरद्वाज
हनुमानपुत्र जिनकी होती है इन मन्दिरों में पूजा : मकरद्वाज

हनुमानपुत्र जिनकी होती है इन मन्दिरों में पूजा : मकरद्वाज

हम सभी को ये पता है की भगवान हनुमान जी ब्र्म्चारी थे | लेकिन उनका एक पुत्र भी था जिसका नाम था मकरद्वज | जब हनुमान जी लंका में श्री राम जी का संदेश सीता माता को देने जातें है तो उनको बंदी बना लिया जाता है और रावण के आदेश पर उनकी पूंछ में आग लगा दी जाती है | लेकिन हनुमान जी इसी आग से लंका में आग लगा देतें हैं | लेकिन जब वे आग को शांत करने के लिए समुन्द्र में जातें है तो उनके शरीर से पसीने की बूँद मछली के मुह में चली जाती है और मछली गर्भ धारण कर लेती है | इस प्रकार हनुमान जी पुत्र का जन्म होता है | लेकिन भारत में हनुमान पुत्र मकरद्वाज   के 2 मन्दिर भी है | आइये जानते है इन मन्दिरों के बारें में

दांडी हनुमान मन्दिर : ये मन्दिर भेंटद्वारिका ,गुजरात में हैं और मन्दिर को दांडी हनुमान के नाम के जाना जाता है | इसी स्थान पर हनुमान जी अपन पुत्र से पहली बार मिले थे | मन्दिर में हनुमान और उनके पुत्र मकरद्वाज   की मूर्तियाँ लगी हुईं है लेकिन ये दोनों आनन्द अवस्था में है | ये एक मात्र मूर्ति है जिसमें हनुमान जी बिना शस्त्र के हैं |

Read this : इस आदिवासी हिन्दू ने किया था तीरों से अंग्रेजों का सामना |                                                    

ब्यावर , राजस्थान : अजमेर से लगभग 50 किमी की दुरी पर ब्यावर में हनुमान जी के पुत्र मकरद्वाज  का मन्दिर है | इस मन्दिर में लोगों के शारीरिक और मानसिक रोगों का इलाज किया जाता है | यहाँ पर ऊपरी बाधाओं से भी मुक्ति मिलती है | मन्दिर में पिता पुत्र दोनों की पूजा की जाती है |